Help Quotes in Hindi | सहायता पर सुविचार अनमोल वचन

Help Quotes in Hindi: दोस्तों आज के इस लेख में हम सहायता पर सुविचार आपके लिए लेके आए हैं। इस तरह की सहायता पर सुविचार आपको और कही नहीं मिलेंगे। उम्मीद करते है की आपको हमारा सहायता पर सुविचार पसंद आएगा।

Help Quotes in Hindi

help quotes in hindi

हर वक्त आप किसी की मदद नहीं कर सकते हैं,
मगर जो आपके सामने है उसकी तो मदद कर सकते हैं।

मुश्किल मैं मनुष्य को,
सहारे की आवश्यकता होती है “सलाह” की नहीं

जो इन्सान सदैव बुरे वक्त में आपकी सहायता से नहीं डरता,
वहीँ हमारा सच्चा यार, रिश्तेदार और साथी होता हैं।

हौसला और उम्मीद रख,
जिंदगी में जीने के रास्ते मिलेंगे,
कर्म पर अपने भरोसा रख,
खुदा मदत के वास्ते मिलेंगे।

जब भी किसी की मदत कीजिये,
तो उस पर अहंकार मत कीजिये।

हर किसी की सहायता करिये,
मगर उसका ढोल मत पिटिए।

ईश्वर भी उसी की मदद करते है,
जों हमेशा स्वयं की मदद को तैयार रहता है।

किसी भी व्यक्ति से मदद लेने से पहले,
इस बात पर विचार कर लेना चाहिए क्या,
आपको वास्तव में मदद की जरूरत है।

मदद मांगने से हमेशा पीछे हटिए,
मगर मदद करने में हमेशा आगे बढ़ते रहिए।

कभी अपनी मांगों को छोड़ कर किसी की,
ज़रूरतों को पूरा कर के देखो अच्छा लगता है।

जो बिना दिखावे के दूसरों की मदद करता हैं,
वही जल्दी ही ऊँचाई पर पहुँचता हैं।

एहसान नहीं मदद कीजिए।

इंसान को सबसे ज्यादा ख़ुशी दूसरों की मदद करके मिलती हैं,
परन्तु इंसान खुश तो होना चाहता हैं,
पर दूसरों की मदद नहीं करना चाहता हैं।

अगर मदद लेना मजबूरी भी हो तब भी किसी,
बुरे व्यक्ति से मदद नहीं लेने की कोशिश करनी चाहिए।

किसी इंसान के लिए “कभी-कभी” इतना ही साथ काफी होता है,
की कंधे पर हाथ भर रख देने से,
गहरे से भी गहरा जख्म हल्का हो जाता है।

हर किसी से मदद ले लीजिए,
लेकिन कभी भी किसी बुरे “व्यक्ति” से मदद मत लीजिए।

जो हाथ दुसरो की मदद करने,
के लिए उठते हे वो हाथ,
प्रार्थना करने वाले होठों से,
ज्यादा प्रवित्र होते हे।

आप पाएंगे भगवान् भी मेहनती “लोगों” की ही मदद करता है,
यह नियम बिलकुल स्पष्ट है।

कभी अपनी अपनी ख्वाहिशों को अधूरा छोड़ कर,
किसी की ज़रूरतों को पूरा कर के देखो अच्छा लगता है।

हर व्यक्ति किसी ना किसी की मदद कर सकता है,
क्यूंकि हर ज़रुरत मंद वयक्ति से,
भी ज्यादा ज़रुरत मंद कोई और हो सकता है।

दुनियां के हर किसी की मदद करना संभव नही है,
मगर जो आपके समक्ष है ,उसकी मदद कर सकते हैं।

इस संसार में जब कोई गिरी हालत में हो,
तो उसकी एक औंस के बराबर सहायता देना एक पौंड के,
बराबर उपदेश देने की अपेक्षा अधिक अच्छा हैं।

अपनी ज़रूरतों को भुला कर जो दूसरों की,
छोटी सी छोटी ज़रूरतों का ध्यान रखे उस,
से बड़ा इंसान कोई भी नहीं है।

माँग कर लिया कर्ज है भीख है एहसान है,
बिना माँगे दिया फ़र्ज है मदद है दान है।

किसी की मदद करते वक्त,
उसके चहेरे की और मत देखे,
हो सकता है की उसकी झुकी हुई,
”आँखे” देखकर आपमें गुरुर आ जाए।

मदद की सीमायें बाधोंगे,
तो नेकी का बाँध कैसे लांघोगे।

सेवा करते वक़्त ना फल के ”बारे” में,
सोचना चाहिए ना ही फल को खोजना चाहिए।

अच्छे व्यवहार का कोई आर्थिक मूल्य भले ही ना हो,
लेकिन अच्छा व्यवहार करोड़ों दिलों को खरीदने कि शक्ति रखता है।

कुछ मीठी सी ठंडक है आज इन हवाओं में,
शायद दोस्तो की यादों का कमरा खुला रह गया है।

आओ कुछ काम करे सभी खुदा के बन्दों के लिए,
अपने लिए काफी जी लिए आओ थोड़ा जी लें ज़रूरतमंदों के लिए।

कभी हाथ मांगने की जगह देने के लिए,
बढ़ाना ही ज्यादा बेहतर विकल्प होता है।

किसी की सहायता करने के बाद उसका,
बखान करने का अर्थ है किये पर पानी फेरना।

मुसीबत में अगर मदद मांगना तो सोच कर मांगना क्योंकी,
मुसीबत थोड़ी देर के लिए होती है और अहसान ज़िंदगी भर का।

सेवा करते वक़्त ना फल के बारे में,
सोचना चाहिए ना ही फल को खोजना चाहिए।

संयम हमारे चरित्र की कीमत बढाता है,
परंतू मित्र और परिवार हमारे जीवन की कीमत बढाते हैं।

ए पत्थर हमारी मदद करों आम तोड्नें हैं,
कि बालकों की ख़ुशियाँ पेड़ों पर टंगी हैं,
किसी इंसान के लिए कभी-कभी इतना ही साथ काफी होता है,
की कंधे पर हाथ भर रख देने से,
गहरे से भी गहरा जख्म हल्का हो जाता है।

जो दौलत के नशे में अमीरी का दिखावा करते है,
हेल्प के वक्त व्यस्त होने का ढोंग रचते हैं।

जों मांगने से मिले वो कर्ज, भीख, एहसान हैं,
जो बिन मांगें मिले वोह फर्ज, मदद व दान हैं।

दूसरों की मदद वहीँ कर सकता है,
जो परपीड़ा को अपनी पीड़ा समझता हैं।

न धन से न दौलत न ही गाड़ी मकान से,
सच्चा सुख मिलता है किसी गरीब की मदद से।

ए यार जिगर के अरमानों को छिपाना नही,
किसी मजबूर शख्स को आजमाना नही,
आपकी मदद के बदले दिल की दुआ मिलती है,
किसी गरीब की मदद से कतराना नहीं।

हर किसी को मदद करते रहिये,
मुफ्त में दिल का चैन व खुशी पाइए।

किसी को दिखाने के लिए किसी की,
मदद करना दिखावा और राजनीति होती है,
असली मदद तो वो है जो एक हाथ से की जाए,
तो दूसरे हाथ को पता भी ना लगे।

दुर्बल व्यक्ति को उठाकर खड़ा कर देना काफी नहीं हैं,
बल्कि बाद में भी उसकी सहायता करनी चाहिए।

ईश्वर ने यदि आपको किसी से अच्छी ज़िन्दगी दी है,
तो वह दूसरों को निचा दिखाने के लिए नहीं,
अपितु उन्हें भी अपनी ही तरह ऊपर उठाने के लिए दी है।

किसी की मदद करने के लिए केवल धन की जरूरत नहीं,
होती, उस के लिए एक अच्छे मन की जरूरत होती हैं।

हमारे मित्र की सहायता का इतना महत्व नही हैं,
जितना कि उससे प्राप्त होने वाली सहायता का विश्वास।

जब अनेक व्यक्ति श्रम में सहभागी होते है,
क्या करें वहां कार्य बहुत अच्छा कहलाता हैं।

स्वयं को अच्छा और अच्छा बनाने के लिए,
इतना वक्त दीजिए कि बुरे कार्य करने के,
लिए आपके पास वक्त ही न हो।

दुनियां के हर जरूरतमंद की सहायता करना संभव नही है,
मगर जो आपके समक्ष है उसकी मदद कर सकते हैं।

जो इन्सान बुरे दौर में भी आपकी मदद करने के,
लिए आगे आता है वही आपका सच्चा हितैषी हैं।

महान सेवा यह है कि हम किसी जरूरतमंद की,
इस तरह मदद करें कि बाद में वह अपनी मदद खुद कर सके।

मतलब भरी इस दुनिया में मैने,
इंसानियत का तमाशा देखा हे,
सेल्फी के ख़ातिर दुसरो की,
मदद करते देखा हे।

वो इन्सान ही किसी की मदद कर सकता है,
जिसे दर्द का एहसास हो।

जो बिना दिखावे के दूसरों की मदत करता हैं,
वह शीघ्र ही ऊँचाई पर पहुँचता हैं।

जब आप किसी से मदद ले रहे हैं,
तो आपको पहले यह समझ लेना चाहिए,
कि कहीं मदद करने वाले व्यक्ति का उद्देश्य बुरा तो नहीं है।

इंसानियत तभी तक इस दुनिया में जिंदा है,
जबतक एक इन्सान दूसरे की बिना,
स्वार्थ के मदद करने को तैयार है।

जीवन के कई मौकों पर हमें खुद हमारी,
मदद करनी होती है. तभी बात बनती है।

जब हम अपनी मदद खुद करने से इंकार देते हैं,
तब हम दुर्भाग्य को निमंत्रण देते हैं।

में किसी से बहेतर करू,
क्या फर्क पड़ता हे,
में किसीका बहेतर करू,
बहुत कुछ फर्क पड़ता हे।

मुसीबत में मदत इंसान की केवल भगवान करते है,
अहंकार के वशीभूत इस बात को नहीं समझते हैं,
प्यार को प्यार से मिला दिया,
और तूने इल्जाम मेरे सिर पर लगा दिया।

आशिकों की मदद करना गुनाह है अगर,
हाँ बेशक मैंने ये गुनाह किया।

वो जो दौलत से अमीर होने का दावा करते हैं,
मदत के वक्त मशगूल होने का दिखावा करते है।

प्यार की उम्मीद ना कर,
फासलें ही मिलेंगे,
मदद की उम्मीद ना कर,
दिलासे ही मिलेंगे,
जिन्दा रहने की उम्मीद ना कर,
मौत के रास्ते ही मिलेंगे।

उसने मुझसे मदत कुछ इस तरह से माँगा,
जैसे बर्षो पुराना को दिया हुआ कर्ज हो।

हर किसी से मदद ले लीजिए,
लेकिन कभी भी किसी बुरे “व्यक्ति” से मदद मत लीजिए।

ये एहसान जताने वालों का जमाना है साहब,
यहाँ मदद की गुजारिश सिर्फ़ ख़ुदा से करें।

तुम भी अपनी जिन्दगी का एक मकसद बना लो,
अगर किसी की मदत नहीं कर सकते तो दुआ जरूर करना।

वही दूसरों की मदत कर सकता हैं,
जो दर्द के एहसास को समझता हैं।

बेहतरीन तोहफ़ा देना हो तो मदद कर देना,
और जिसकी भी करो तुम हद कर देना।

कुछ भी हो जाए पर इरादें नेक रखों,
दूसरों की मदद के लिए दिल में प्रेम रखों।

ना दौलत से, ना शोहरत से,
ना बंगला-गाड़ी रखने से,
मिलता है सुकून दिल को,
किसी गरीब की मदत करने से।

ऐ दोस्त दिल की बातों को कभी छुपाना नहीं,
किसी गरीब के सब्र को कभी आजमाना नहीं,
वो मदत के बदले हजारों दुआएं देता हैं,
जरूरतमंद की मदत करने से कभी कतराना नहीं।

दूसरों की दिल से मदत कीजिये,
शान्ति और खुशियाँ मुफ्त में लीजिये।

मरहम लगा सको तो किसी गरीब के,
जख्मों पर लगा देना, हकीम बहुत है,
बाजार में अमीरों के इलाज खातिर।

परोपकार करना, दूसरों की सेवा करना,
और उसमें जरा भी अहंकार न करना,
यही सच्ची शिक्षा हैं।

हम हर किसी की मदद नहीं कर सकते,
लेकिन हर कोई किसी की मदद कर सकता हैं।

हम अपनी अमीरी को दिखाते नहीं है,
किसी की मदत करके सुनाते नहीं है।

उम्मीद करते है की, आपको यह हमारा सहायता पर सुविचार आपको जरूर पसंद आया होगा। आप हमारा यह लेख अपने मित्रो के साथ साझा कर सकते है।

Leave a Comment